Rajasthan Current Affairs /04 June 2021/RAS/SI 2021/IAS/College Lecturer| Ghanshyam Sharma - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Friday, June 4, 2021

Rajasthan Current Affairs /04 June 2021/RAS/SI 2021/IAS/College Lecturer| Ghanshyam Sharma

Rajasthan Current Affairs /04 June 2021/RAS/SI 2021/IAS/College Lecturer| Ghanshyam Sharma




17- हाल ही में गृह मंत्रालय ने राजस्थान के कुल कितने जिलों को नागरिक सुरक्षा जिले घोषित किया है-

A- 10
B- 12
C- 15
D- 18

गृह मंत्रालय ने राजस्थान सरकार के प्रस्ताव पर शेष 12 जिलों को नागरिक सुरक्षा जिले घोषित कर दिया है।
इसके साथ ही राजस्थान देश का पहला राज्य है जहां सभी 33 जिले नागरिक सुरक्षा जिले घोषित किए गए हैं।
21 जिलों को वर्ष 2010 में नागरिक सुरक्षा जिला घोषित किया गया था।
अब राज्य में सभी जिले हवाई हमला चेतावनी सिस्टम से लैस होंगे जिसका पूरा खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी।
यह एक रेडियो आधारित सिस्टम है जो सामान्य चेतावनी सायरन से बिल्कुल अलग होता है।
इसके द्वारा किसी भी आपदा के समय सूचनाएं किसी क्षेत्र में तेजी से पहुंचाई जा सकती है।
इससे राज्य में आपदा प्रबंधन सिस्टम मजबूत होगा तथा बाढ, महामारी, कानून व्यवस्था व अन्य आपदाओं के प्रबंधन में सहायक होगा।

17- Recently, how many districts of Rajasthan have been declared as civil defense districts by the Ministry of Home Affairs?

A- 10
B- 12
C- 15
D- 18

The Home Ministry has declared the remaining 12 districts as civil defense districts on the proposal of the Rajasthan government.
With this, Rajasthan is the first state in the country where all 33 districts have been declared civil defense districts.
21 districts were declared civil defense districts in the year 2010.
Now all the districts in the state will be equipped with air strike warning system, whose entire cost will be borne by the central government.
It is a radio based system which is completely different from the normal warning siren.
Through this, information can be delivered rapidly to any area at the time of any disaster.
This will strengthen the disaster management system in the state and will be helpful in the management of floods, epidemics, law and order and other disasters.

18- देश में स्टार्टअप इंडिया पहल के अंतर्गत जून 2021 तक कुल कितने स्टार्टअप्स को मान्यता दी गई है-

A- 10000
B- 20000
C- 30000
D- 50000

उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार (डीपीआईआईटी) स्टार्टअप पहल के लिए नोडल विभाग के रूप में कार्य करता है। 3 जून, 2021 तक, डीपीआईआईटी द्वारा 50,000 स्टार्टअप को मान्यता दी गई है, जिनमें से 19,896 स्टार्टअप को 1 अप्रैल, 2020 के बाद मान्यता मिली है।
स्टार्टअप इंडिया 16 जनवरी, 2016 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई भारत सरकार की एक प्रमुख योजना है। इसका उद्देश्य स्टार्टअप संस्कृति को बढ़ावा देना और भारत में इन्नोवेशन और उद्यमिता के लिए एक मजबूत और समावेशी पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना है।
स्टार्टअप इंडिया योजना के शुभारंभ के साथ, मान्यता प्राप्त स्टार्टअप का विस्तार अब 623 जिलों तक हो गया हैं। इस समय प्रत्येक राज्य और संघ राज्य क्षेत्र में कम से कम एक स्टार्टअप है। 30 राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों ने स्टार्टअप को समर्थन देने के लिए विशिष्ट स्टार्टअप नीतियों की घोषणा की है। महाराष्ट्र, कर्नाटक, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और गुजरात में स्टार्टअप्स की संख्या सबसे ज्यादा है।
सबसे ज्यादा 'खाद्य प्रसंस्करण', 'उत्पाद विकास', 'एप्लीकेशन डेवलपमेंट', 'आईटी परामर्श' और 'व्यावसायिक सहायता सेवाएं' क्षेत्र में स्टार्टअप का पंजीकरण हुआ है। अहम बात यह है कि 45% स्टार्टअप ऐसे हैं जिनके नेतृत्व टीम में एक महिला उद्यमी है।
10,000 करोड़ रुपये के फंड ऑफ फंड्स स्कीम और 945 करोड़ रुपये के स्टार्टअप इंडिया सीड फंड स्कीम (एसआईएसएफएस) के जरिए स्टार्टअप्स के लिए पूंजी जुटाने  के अवसर बढ़े हैं।
डीपीआईआईटी द्वारा तैयार की गई और उसके द्वारा क्रियान्वित कई कार्यक्रम जैसे राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार, राज्य रैंकिंग फ्रेमवर्क, वैश्विक वीसी शिखर सम्मेलन, प्रारंभ: स्टार्टअप इंडिया अंतरराष्ट्रीय सम्मलेन ने स्टार्टअप के पारिस्थितिकी तंत्र में कई भागीदारों के साथ जुड़ने, उनके योगदान के लिए मान्यता देने और उस कार्य को प्रदर्शित करने का अवसर प्रदान किया है।

18- How many startups have been recognized in the country till June 2021 under the Startup India initiative-

A- 10000
B- 20000
C- 30000
D- 50000

Promotion of Industry and Internal Trade (DPIIT) acts as the nodal department for the startup initiative. As of June 3, 2021, 50,000 startups have been recognized by DPIIT, out of which 19,896 startups have been recognized after April 1, 2020.
Startup India is a flagship scheme of the Government of India launched by the Prime Minister Shri Narendra Modi on January 16, 2016. It aims to foster a startup culture and build a strong and inclusive ecosystem for innovation and entrepreneurship in India.
With the launch of the Startup India scheme, the recognized startups have now expanded to 623 districts. At present, there is at least one startup in each state and union territory. 30 states and union territories have announced specific startup policies to support startups. Maharashtra, Karnataka, Delhi, Uttar Pradesh and Gujarat have the highest number of startups.
The maximum number of startups registered in the areas of 'Food Processing', 'Product Development', 'Application Development', 'IT Consulting' and 'Business Support Services'. Importantly, 45% of startups are headed by a woman entrepreneur in their leadership team.
Capital raising opportunities for startups have increased through the Rs 10,000 crore Fund of Funds Scheme and Rs 945 crore Startup India Seed Fund Scheme (SISFS).
Several events designed and implemented by DPIIT such as National Startup Awards, State Ranking Framework, Global VC Summit, START: Startup India International Conclave engage with multiple partners in the startup ecosystem, to recognize their contribution and given the opportunity to demonstrate that work.


19- एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप 2021 में भारत ने कुल कितने पदक अपने नाम किए हैं-

A- 10
B- 12
C- 15
D- 20

बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) और यूएई बॉक्सिंग फेडरेशन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित की गई एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भारत ने कुल 15 पदक जीते। इसमें दो स्वर्ण, पांच रजत और आठ कांस्य शामिल हैं।
भारतीय खिलाड़ी संजीत कुमार ने 91 ऐसी किग्रा पुरुष वर्ग में जबकि पूजा रानी ने 75 किग्रा महिला वर्ग में स्वर्ण पदक अपने नाम किया
भारत ने 2019 में बैंकाक एशियाई चैम्पियनशिप से बेहतर प्रदर्शन किया है, जहां उसने दो स्वर्ण, चार रजत और सात कांस्य पदक जीते थे। 2019 में पूजा और अमित पंघल ने सोना जीता था।
भारतीय महिलाओं ने शानदार प्रदर्शन करते हुए कुल 10 पदक हासिल किए।
भारत, उज्बेकिस्तान, मंगोलिया, फिलीपींस और कजाकिस्तान जैसे मजबूत मुक्केबाजी राष्ट्रों सहित 17 देशों के 150 मुक्केबाजों ने इस चैम्पियनशिप में हिस्सा लिया।

19- How many medals have been won by India in Asian Boxing Championship 2021-

A- 10
B- 12
C- 15
D- 20

India won a total of 15 medals in the Asian Boxing Championships, jointly organized by the Boxing Federation of India (BFI) and the UAE Boxing Federation. This includes two gold, five silver and eight bronze.
Indian player Sanjeet Kumar won the gold medal in the 91 such kg men's category while Pooja Rani won the gold medal in the 75 kg women's category.
India has fared better than the Bangkok Asian Championship in 2019, where it won two gold, four silver and seven bronze medals. In 2019, Pooja and Amit Panghal won gold.
Indian women performed brilliantly, winning a total of 10 medals.
150 boxers from 17 countries including strong boxing nations like India, Uzbekistan, Mongolia, Philippines and Kazakhstan competed in the championship.

20- नासा द्वारा दविंची प्लस और वैरिटास मिशन निम्नलिखित में से किस ग्रह के लिए भेजे जाएंगे-

A- शुक्र
B- बुध
C- मंगल
D- शनि

अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने कहा है कि शुक्र ग्रह के वायुमंडल और उसकी भूवैज्ञानिक विशेषताओं की जाँच के लिए दो मिशन भेजे जाएँगे।
इन दोनों मिशन के लिए 50-50 करोड़ डॉलर की फंडिंग को मंज़ूरी मिल गई है और ये मिशन साल 2028 और 2030 के बीच लॉन्च होंगे।
डीप एटमॉस्फ़ेरिक वीनस इंवेस्टिगेशन ऑफ़ नोबल गैसेस, केमिस्ट्री एंड इमेजिंग नाम का दाडाविन्ची प्लस मिशन शुक्र के वायुमंडल का अध्ययन करेगा और ये पता लगाने की कोशिश करेगा कि ये ग्रह कैसे बना।
दूसरी मिशन वीनस एमिसिविटी, रेडियो साइंस, इनसार, टोपोग्राफ़ी एंड स्पैक्ट्रोस्कोपी यानी वेरिटास मिशन है जो शुक्र की एक पूरी तस्वीर बनाने की कोशिश करेगा. इसके ज़रिए ये मिशन ग्रह के भूवैज्ञानिक इतिहास को समझने की कोशिश करेगा और जाँच करेगा कि इसका विकास पृथ्वी से अलग क्यों हुआ।
शुक्र ग्रह के लिए भेजा गया आख़िरी अंतरिक्षयान मैगलिन ऑर्बिटर था, जिसे साल 1990 में भेजा गया था।

20- Davinci Plus and Varitas missions will be sent by NASA to which of the following planets-

A- Venus
B- Mercury
C- Mars
D- Saturn

America's space agency NASA has said that two missions will be sent to investigate Venus's atmosphere and its geological features.
Funding of $ 500 million has been approved for both these missions and these missions will be launched between the years 2028 and 2030.
The Dadavinci Plus mission, named Deep Atmospheric Venus Investigation of Noble Gases, Chemistry and Imaging, will study the atmosphere of Venus and try to find out how this planet formed.
The second mission is Venus Emissivity, Radio Science, InSAR, Topography and Spectroscopy ie Veritas mission which will try to make a complete picture of Venus. Through this mission, this mission will try to understand the geological history of the planet and investigate why it evolved apart from Earth.
The last spacecraft sent to Venus was the Magellan orbiter, which was sent in the year 1990.


21- चीन द्वारा कम्युनिस्ट पार्टी की 100 वी वर्षगांठ पर देश में चलाए जा रहे हैं एक विशेष पर्यटन अभियान का नाम क्या है

A- ग्रीन टूरिज्म
B- वाइट टूरिज्म
C- रेड टूरिज्म
D- ब्लैक टूरिज्म

इस वर्ष चीन की कम्युनिस्ट पार्टी अपनी 100वीं वर्षगाँठ मना रही है और इसी के साथ चीन में ‘रेड टूरिज़्म’ की लोकप्रियता में भी बढ़ोतरी हो रही है। चीन में 'रेड टूरिज़्म’ का तात्पर्य उन स्थलों से है, जहाँ चीन में हुई आधुनिक क्रांति की विरासत मौजूद है। वर्ष 2004 में शुरू की गई इस परियोजना का उद्देश्य सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के इतिहास में ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक महत्त्व वाले स्थलों में पर्यटन को बढ़ावा देना है।
'रेड टूरिज़्म’ चीन के जन सामान्य को कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं द्वारा आधुनिक चीन के निर्माण के लिये दिये गए बलिदान की याद दिलाता है। इस तरह चीन की कम्युनिस्ट पार्टी इतिहास और पर्यटन के माध्यम से पार्टी की विचारधारा को मज़बूत कर रही है।

21- What is the name of a special tourism campaign being run by China on the 100th anniversary of the Communist Party in the country?

A- Green Tourism
B- white tourism
C-Red Tourism
D- Black Tourism

This year the Communist Party of China is celebrating its 100th anniversary and at the same time the popularity of 'red tourism' in China is also increasing. 'Red tourism' in China refers to the places where the legacy of the modern revolution in China is present. The project, launched in 2004, aims to promote tourism to sites of historical and cultural importance in the history of the ruling Communist Party.
'Red Tourism' reminds the people of China of the sacrifices made by the leaders of the Communist Party to build modern China. In this way the Communist Party of China is strengthening the ideology of the party through history and tourism.


22- पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना में कोविड-19 से अनाथ बच्चों में से प्रत्येक के लिए कुल कितनी राशि की व्यवस्था की जाएगी-

A- ₹500000
B- ₹700000
C- ₹800000
D- ₹1000000

सरकार ने कोविड-19 के कारण अनाथ हुए सभी बच्चों के लिये एक विशेष ‘पीएम-केयर फॉर चिल्ड्रन’ योजना की घोषणा की है।
जिन बच्चों ने कोविड-19 के कारण अपने माता-पिता या कानूनी अभिभावक या दत्तक माता-पिता को खो दिया है, वे इस योजना के लिये पात्र होंगे।
इनमें से प्रत्येक बच्चे को पीएम केयर फंड से 10 लाख रुपए का कोष आवंटित किया जाएगा।
इस कोष का उपयोग 18 वर्ष की आयु के बाद अगले पाँच वर्षों तक उच्च शिक्षा की अवधि के दौरान बच्चों की व्यक्तिगत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये मासिक वित्तीय सहायता/छात्रवृत्ति हेतु उपयोग किया जाएगा और 23 वर्ष की आयु पूरी करने पर, व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक उपयोग के लिये उसे एकमुश्त के रूप में कोष की राशि मिलेगी।
आयुष्मान भारत योजना के तहत ऐसे सभी बच्चों को एक लाभार्थी के रूप में नामांकित किया जाएगा, जिसमें 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा कवर शामिल होगा।
ऐसे बच्चों के 18 वर्ष के होने तक प्रीमियम राशि का भुगतान पीएम-केयर्स फंड द्वारा किया जाएगा।
राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग’ ने देखभाल और सुरक्षा की आवश्यकता वाले बच्चों की पहचान करने के लिये एक ऑनलाइन ट्रैकिंग पोर्टल ‘बाल स्वराज’ (कोविड-केयर) पोर्टल तैयार किया है।

22- In PM Cares for Children scheme, how much amount will be arranged for each of the orphan children from Kovid-19-

A- ₹500000
B- ₹700000
C- ₹800000
D- ₹1000000

The government has announced a special 'PM-Cares for Children' scheme for all the children orphaned due to COVID-19.
Children who have lost their parents or legal guardian or adoptive parents due to COVID-19 will be eligible for this scheme.
Each of these children will be allocated a corpus of Rs 10 lakh from the PM Cares Fund.
This fund will be used for monthly financial assistance/scholarship to meet the individual needs of the children during the period of higher education for the next five years after the age of 18 years and on attaining the age of 23 years, for personal and professional purposes. For utilization, he will get the amount of the fund as a lump sum.
All such children will be enrolled as a beneficiary under the Ayushman Bharat scheme, which will include a health insurance cover of up to Rs 5 lakh.
The premium amount will be paid by the PM-CARES Fund till such children attain the age of 18 years.
The 'National Commission for Protection of Child Rights' has developed an online tracking portal 'Bal Swaraj' (Covid-Care) portal to identify children in need of care and protection.


Tags#-
rajasthan current June 2021, rajasthan current June ,ras junction current affairs, daily current affairs rajasthan, ras junction, best current for ras, current for ras exam,RPSC SI current, current affairs 2021, rajasthan current SI 2021, ras exam current, ras current June 2021, June 2021 rajasthan current,04 June rajasthan current, SI current,Ghanshyam Sharma current, best institute ras, राजस्थान करंट अफेयर्स जून 2021, rajasthan current affairs today, ras current rajasthan current affairs in english June 2021

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages