Rajasthan Current Affairs /01 June 2021/RAS/SI 2021/Patwari/College Lecturer| Ghanshyam Sharma - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Tuesday, June 1, 2021

Rajasthan Current Affairs /01 June 2021/RAS/SI 2021/Patwari/College Lecturer| Ghanshyam Sharma

Rajasthan Current Affairs /01 June 2021/RAS/SI 2021/Patwari/College Lecturer| Ghanshyam Sharma



01- निम्नलिखित में से किस संस्थान के वैज्ञानिकों ने मानव मस्तिष्क की नकल करने वाला कुशल आर्टिफिशियल सिनैप्टिक नेटवर्क विकसित किया-


A- जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च
B- आईआईएसआर बेंगलुरु
C- आईआईटी दिल्ली
D- आईआईटी मुंबई

  • वैज्ञानिकों ने मानव मस्तिष्क की नकल करने वाला कुशल आर्टिफिशियल सिनैप्टिक नेटवर्क विकसित किया।
  • मानव मस्तिष्क में लगभग सौ अरब न्यूरॉन्स होते हैं जिनमें अक्षतंतु और डेंड्राइट होते हैं। ये न्यूरॉन्स बड़े पैमाने पर एक दूसरे के साथ अक्षतंतु और डेंड्राइट के माध्यम से जुड़ते हैं, जो सिनैप्स नामक विशाल जंक्शन बनाते हैं। माना जाता है कि यह जटिल जैव-तंत्रिका नेटवर्क ज्ञान संबंधी बेहतर क्षमताएं देता है।
  • यह अनुमान लगाया गया है कि मस्तिष्क शरीर की ऊर्जा का  कुल का 20% खपत करता है। कैलोरी के  रूपांतरण से यह 20 वाट है जबकि परंपरागत कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म बुनियादी मानव ज्ञान  की नकल करने के लिए मेगावाट, यानी 10 लाख वाट ऊर्जा की खपत करते हैं।
  • इस बाधा को दूर करने के लिए एक हार्डवेयर आधारित समाधान में एक कृत्रिम सिनैप्टिक उपकरण शामिल होता है, जो ट्रांजिस्टर के विपरीत, मानव मस्तिष्क सिनैप्स के कार्यों का अनुकरण कर सकता है।
  • जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च (जेएनसीएएसआर), बेंगलुरु के वैज्ञानिकों ने एक सरल स्व-निर्माण विधि के माध्यम से (उपकरण संरचना गर्म करते समय स्वयं द्वारा बनाई जाती है) जैविक तंत्रिका नेटवर्क जैसा एक कृत्रिम सिनैप्टिक नेटवर्क (एएसएन) बनाने का एक नया दृष्टिकोण तैयार किया।

02- हाल ही में निम्नलिखित में से किस संस्थान द्वारा समुद्री गाय डुंगोंग के जीवाश्म पर शोध किया गया है-

A- आईआईटी चेन्नई
B- आईआईटी मुंबई
C- आईआईटी जबलपुर
D- आईआईटी रुड़की

  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) रुड़की के विज्ञानियों ने समुद्री गाय (डुगोंग) के जीवाश्म पर किए गए शोध से पता लगाया कि भारत में डुगोंग का इतिहास चार करोड़ 20 लाख साल पुराना है।
  • विज्ञानियों का दावा है कि भारत में स्तनधारी समुद्री गाय की चार प्रजाति मौजूद थीं। लेकिन, अब मात्र एक ही प्रजाति रह गई है और वो भी विलुप्ति के कगार पर है।
  • विज्ञानियों के अनुसार डुगोंग कच्छ की खाड़ी, मन्नार की खाड़ी, पाक खाड़ी (तमिलनाडु), अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अपने अस्तित्व के लिए लड़ रही है।
  • सरकार ने भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम-1972 के तहत समुद्री गाय का शिकार प्रतिबंधित किया है।
  • डुगोंग स्तनधारी समुद्री प्रजाति है। मादा डुगोंग एक शिशु को 12-14 महीने के गर्भ धारण के बाद जन्म देती है तथा प्रत्येक शिशु के मध्य 3-7 वर्षों का न्यूनतम अंतराल होता है। अर्थात् इसकी संख्या में बहुत धीमी गति से वृद्धि होती है।
  • डुगोंग अपने भोजन के लिये मुख्यत: समुद्री घास पर पर निर्भर रहता है तथा एक दिन में 40 किलोग्राम तक समुद्री घास खा लेता है।
  • फिलहाल गुजरात, तमिलनाडु और अंडमान निकोबार में ही 250 समुद्री गाय बची हुई हैं। अगले 10 साल में इनकी संख्या 500 तक पहुंचाने का लक्ष्य है।

03- निम्नलिखित में से किस एक उर्वरक निर्माता ने हाल ही में नाइट्रोजन उर्वरक आधारित नैनो यूरिया तैयार किया है-

A- गुजरात नर्मदा वैली फर्टिलाइजर्स
B- चंबल फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल लिमिटेड
C- इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोऑपरेटिव
D- कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड

  • भारतीय किसान उर्वरक कोआपरेटिव (Indian Farmers Fertiliser Cooperative – IFFCO) ने नाइट्रोजन उर्वरक आधारित नैनो यूरिया तैयार किया है
  • एक 500 मिलीलीटर नैनो यूरिया सामान्य यूरिया के 45 किलोग्राम के बराबर है। 500 मिली यूरिया की कीमत करीब 240 रुपये है। इसके अलावा, इससे किसानों की लागत में 15% की कमी आएगी और खेती से उपज में लगभग 20% की वृद्धि होगी।
  • फसलों के पोषक तत्वों की दक्षता में सुधार के लिए नैनो-प्रौद्योगिकी (nano-technology) से उत्पादित यूरिया को नैनो यूरिया कहा जाता है। नैनो यूरिया का उत्पादन दो तरह से होता है:
  • सबसे पहले क्विनहाइड्रोन (quinhydrone) मिश्रित अल्कोहल तैयार किया जाता है।
  • फिर, इस मिश्रण को नैनो यूरिया बनाने के लिए कैल्शियम साइनामाइड ग्रेन्यूल्स (calcium cyanamide granules) पर फैलाया जाता है।

04- हाल ही में वैज्ञानिकों ने निम्नलिखित में से किस एक बीमारी को ठीक करने के लिए ऑप्टोजेनेटिक्स तकनीक का इस्तेमाल किया-

A- मधुमेह
B- कैंसर
C- दृष्टि बाधितता
D- पार्किंसन

  • वैज्ञानिकों ने जीन थेरैपी से एक दृष्टिबाधित को आंशिक रोशनी देने में सफलता हासिल की है।
  • ऑप्टोजेनेटिक्स तकनीक का इस्तेमाल कर इस व्यक्ति की एक आंख के रेटिना में प्रकाश पकड़ने वाले प्रोटीनों का निर्माण किया।
  • एक बार प्रकाशग्राहक कोशिकाएं मर जाएं तो इनको ठीक नहीं किया जा सकता। 
  • इसलिए ऑप्टोजेनेटिक्स तकनीक विकसित की गई, इसमें दृष्टि से जुड़ी मस्तिष्क की कार्यप्रणाली जांची जाती है।
  • ऑप्टोजेनेटिक्स के जरिये रेटिना में कोशिकाओं से प्रकाश संवेदी प्रोटीन जोड़ने पर विचार किया। 
  • लेकिन, ऑप्टोजेनेटिक्स प्रोटीन आंखों में जाने वाले प्रकाश से तस्वीर बनाने को लेकर पर्याप्त संवेदनशील नहीं था। लिहाजा, उन्होंने केवल संकेत सूचक प्रकाश (एम्बरलाइट) के प्रति संवेदनशील ऑप्टोजेनेटिक्स प्रोटीन चुना। एम्बरलाइट आंखों के लिए अन्य रंगों के मुकाबले ज्यादा आसान रहती है।

05- राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार भारत की अर्थव्यवस्था में वित्त वर्ष 2020-21 में कितना संकुचन हुआ है-

A- 5.6%
B- 6.3%
C- 7.3%
D- 8.4%

  • राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार भारत की अर्थव्यवस्था 2020-21 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) के दौरान 1.6 प्रतिशत की दर से बढ़ी, जबकि पूरे वित्त वर्ष के दौरान जीडीपी में 7.3 फीसदी की संकुचन देखने को मिली।
  • हालांकि, जनवरी-मार्च 2021 के दौरान वृद्धि दर इससे पिछली तिमाही अक्टूबर-दिसंबर 2020 के 0.5 प्रतिशत वृद्धि के मुकाबले बेहतर थी।
  • पिछले साल(2019-20) में यह 4 फीसदी रही थी।
  • चीन ने जनवरी-मार्च 2021 में 18.3 फीसदी की आर्थिक वृद्धि दर्ज की है।
  • राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2020-21 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 9.3 फीसदी रहा।

06- हाल ही में राजस्थान में रिलीज की गई फीचर फिल्म "रोड टू रिफॉर्म" किस विषय पर केंद्रित है-

A- गरीब वर्ग का उत्थान
B- महिला सशक्तिकरण
C- जेलों में बंद कैदी
D- ट्रांसजेंडर

  • राजस्थान में कैदियों के प्रति समाज का नजरिया बदलने के लिए बनाई गई फीचर फिल्म ’रोड टू रिफॉर्म’ को 31 मई को रिलीज किया गया।
  • महानिदेशक कारागार राजीव दासोत (Rajiv Dasot) की ओर से रचित अवधारणा पर आधारित लगभग एक घंटे की इस फीचर फिल्म का निर्माण मुंबई के मशहूर फिल्म निर्देशक संजीव शर्मा ने किया है।
  • इस ऑडियो-विजुअल नवाचार का फिल्मांकन हाल ही में जयपुर के केन्द्रीय कारागृह, महिला बंदी सुधार गृह तथा बंदी खुला शिविर, सांगानेर में हुआ है।
  • इस फिल्म की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें अभिनय करने वाले सभी पात्र जेल विभाग के अधिकारी-कर्मचारी एवं बंदी है।
  • इस फिल्म में समाज का आह्वान किया गया है कि वह बंदियों को रिहाई के पश्चात नवजात शिशु के रूप में स्वीकार कर उनके सुधार एवं पुनर्स्थापन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करें।

rajasthan current June 2021, rajasthan current June ,ras junction current affairs, daily current affairs rajasthan, ras junction, best current for ras, current for ras exam,RPSC SI current, current affairs 2021, rajasthan current SI 2021, ras exam current, ras current June 2021, June 2021 rajasthan current,01 June rajasthan current, SI current,Ghanshyam Sharma current, best institute ras, राजस्थान करंट अफेयर्स जून 2021, rajasthan current affairs today, ras current rajasthan current affairs in english may 2021
rajasthan current June 2021,ras junction current affairs,daily curent rajasthan,ras junction,best curent for ras,current ras exam,RPSC SI current,current affairs 2021,ras exam current,ras current June 2021,June 2021 Rajasthan current,01 June rajasthan current,best institut ras,राजस्थान करंट अफेयर्स जून 2021,rajasthan current 31 June,ras current,rajasthan english current affairs,rajasthan current affairs monthly,rajasthan current 01 June 2021,rpsc

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages