Key health initiative in Rajasthan/ राजस्थान में सार्वजनिक स्वास्थ्य उपक्रम - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Sunday, December 16, 2018

Key health initiative in Rajasthan/ राजस्थान में सार्वजनिक स्वास्थ्य उपक्रम

Key health initiative in Rajasthan/ राजस्थान में सार्वजनिक स्वास्थ्य उपक्रम/Ras mains paper 2


राजस्थान देश के कुल भोगोलिक क्षेत्र का 10.4 % तथा देश की कुल आबादी का  5.67% धारण करता है। राजस्थान की भोगोलिक विशालता की वजह से यह ग्रामीण तथा शहरी दोनो क्षेत्रों में व्यापक स्वास्थ्य सुविधाए उपलब्ध करवाना एक चुनौती पूर्ण कार्य रहा है।
हालाँकि सरकार ने पिछले कुछ वर्षों में सवर्जनिक निजी भागीदारी का माँडल अपनाकर महिलाओं तथा बचो के स्वास्थ्य में सुधार, पोषण की स्थिति में सुधार एवं उचित स्वास्थ्य देखभाल उपलब्ध करवाने के लिए लगातार प्रयासरत है।

दिसंबर 2017 तक राज्य में कुल 115 चिकित्सालय, 586 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र 2080 ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र 193 औषधालय, 53 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र 14406 उप स्वास्थ्य केंद्र उपलब्ध है।

राजस्थान सरकार की प्रमुख योजनाएं-
मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना-
योजना की शुरुआत 2 अक्टूबर 2011 को की गई थी।
योजना का उद्देश्य सभी राजकीय चिकित्सालय में आने वाले सभी अंतरंग एवं बहिरंग रोगियों को लाभ पहुंचाना है।
इसके अंतर्गत स्वास्थ्य केंद्रों पर अधिकांश प्रयोग में आने वाली आवश्यक दवाइयां निशुल्क उपलब्ध करवाई जाती है।
इस हेतु से राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कॉरपोरेशन का गठन किया गया है।
वर्ष 2017 18 में आवश्यक दवा सूची के अनुसार 606 प्रकार की दवाएं, 147 शल्य औजार तथा 77 टांके की सूची बद्ध हैं।
निशुल्क दवाओं की सूची प्रत्येक राजकीय चिकित्सा संस्थान की दवा वितरण केंद्र पर उपलब्ध कराई जाती है।

मुख्यमंत्री निशुल्क जांच योजना- 

निशुल्क दवा के साथ साथ राजकीय अस्पतालों में संपूर्ण उपचार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रयोगशालाओं की क्षमता में बढ़ाने एवं जांच सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के रूप में इसे लागू किया गया है।
इस समय केवल रोगियों को निशुल्क जांच का लाभ मिला है बल्कि राजकीय चिकित्सालयों में जांच सेवाओं का सुदृढ़ीकरण भी हुआ है।

सार्वजनिक निजी सहभागिता-

निजी जन सहभागिता से हिमो डायलिसिस की सुविधा राजस्थान के 8 जिला चिकित्सालय में संचालित है।
5 जिलों में जिला चिकित्सालयों पर निजी जन सहभागिता से आईवीएफ केंद्रों का संचालन हो रहा है।
53 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र निजी जन सहभागिता से संचालित हो रहे हैं।
29 जिला चिकित्सालयों में सिटी स्कैन का संचालन निजी जन सहभागिता से हो रहा है।
चार जिला चिकित्सालय में एम आर आई मशीन का संचालन निजी जन सहभागिता से किया जा रहा है।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना-

योजना की शुरुआत 13 दिसंबर 2015 से की गई थी।
योजना का उद्देश्य राज्य के गरीब परिवारों (राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में चयनित) को निजी स्वार्थ चिकित्सालयों में भी कैशलेस चिकित्सा सुविधा प्रदान कर बीमारी से वित्तीय एवं सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना एवं जनता के द्वारा स्वास्थ्य पर किए जा रहे व्यय को कम करना है।

विशेषताएं-
योजना में 97 लाख परिवार लाभान्वित वर्ग हैं।
प्रत्येक परिवार को प्रतिवर्ष चयनित सामान्य बीमारियों हेतु ₹30000 तथा चिन्हित गंभीर बीमारी हेतु ₹300000 का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाएगा।
योजना में 1715 डिजीज पैकेज सम्मिलित है।
योजना के अंतर्गत आईपीडी चिकित्सा सुविधाएं कैशलेस प्रदान की जाती है।
योजना के अंतर्गत 501 सरकारी व 778 निजी चिकित्सालय द्वारा सेवा उपलब्ध कराई जा रही है।
अस्पताल में भर्ती होने से 7 दिन पूर्व अस्पताल भर्ती होने के बाद 15 दिन पश्चात तक का व्यय सम्मिलित किया जाता है।

मुख्यमंत्री बीपीएल जीवन रक्षा कोष-

योजना 1 जनवरी 2009 से प्रारंभ की गई थी।
इसके लिए बीपीएल परिवारों के मरीजों को आउटडोर तथा इंडोर में निशुल्क उपचार प्रदान किया जाता है।
राजस्थान में चिकित्सालयों में निदान उपलब्ध न हो तो एम्स नई दिल्ली तथा पीजीआई चंडीगढ़ रेफर किया जाता है।


राजस्थान में सरकार की ई स्वास्थ्य पहलें -

आशा सॉफ़्ट -

इसे स्वास्थ्य के क्षेत्र में सामुदायिक प्रक्रिया के घटक के रूप में शुरू किया गया था जो कि अब विश्व का सबसे बड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता कार्यक्रम बन चुका है।
इसने स्वास्थ्य के क्षेत्र में लोगों की भागीदारी को सक्षम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
आशा वह महिला कार्यकर्ता है जो कि समुदाय स्तर पर स्वास्थ्य देखभाल, सुविधकर्ता,एक सेवा प्रदाता तथा जागरूकता पैदा करने जैसे कार्य करती है।
ये बच्चों तथा माताओं के स्वास्थ्य सुधार हेतु स्वास्थ्य एवं परिवार नियोजन से जुड़ी जानकरिया लोगों को साझा करती है।
राष्ट्रीय रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत महत्वपूर्ण सेवाए प्रदान करती है।
आशा सॉफ़्ट एक ऑनलाइन प्रणाली है जो निम्न लिखित सुविधा प्रदान करती है-
लाभार्थी को आशा सहयोगी से प्राप्त सभी सेवाओं का विवरण 
आशा सहयोगी को उनके खाते में ऑनलाइन भुगतान 
कार्यक्रम की प्रगति से जुड़ी रिपोर्ट जेनरेशन के लिए।

गर्भावस्था बाल ट्रेकिंग एवं स्वास्थ्य सेवा प्रबंधन प्रणाली (  PCTHSMS)

यह एक ऑनलाइन सॉफ़्टवेयर है जो चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग एवं सरकार द्वारा प्रभावी योजना एवं प्रबंधन के लिए उपकरण के रूप में प्रयोग किया जाता है।
इस प्रणाली के द्वारा राज्य के १३००० से अधिक स्वास्थ्य संस्थानो के डेटा को संग्रहित किया जाता है।
इसमें निम्नलिखित मुद्दों से जुड़ी सूचनाए उपलब्ध होती है -
गर्भवती महिलाओं तथा बच्चों की ट्रेकिंग 
बेहतर स्वास्थ्य निगरानी 
टीकाकरण कार्यक्रम की निगरानी 
नसबंदी मामलों की पहचान 
संस्थागत वितरण की निगरानी 
स्वास्थ्य संदेश सेवा 
स्वास्थ्य संस्थानो की जानकारी 

आरोग्य ऑनलाइन प्रोजेक्ट-

यह स्वास्थ्य क्षेत्र की एक प्रमुख पहल है जिसको राज्य के अस्पतालों में रोगियों की देखभाल में सुधार के लिए अस्पतालों को स्वचालित करने के लिए शुरू किया गया है।
यह राज्य के नागरिकों को सुरक्षित अधिक कुशल तथा गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य संबंधी जानकारी का इलेक्ट्रॉनिक प्रबंधन है।
इसके अंतर्गत किसी भी रोगी से जुड़ी संपूर्ण सूचना को डिजिटल किया जाता है ताकि आवश्यकता होने पर उसे उन्हें प्राप्त किया जा सके।

मिसाल रैंकिंग-

यह मासिक स्तर पर जारी की जाने वाली जिला स्वास्थ्य रैंकिंग है।
सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं के वितरण में सुधार के लिए जिलों के बीच प्रतिस्पर्धी प्रतियोगिता द्वारा राज्य के स्वास्थ्य मॉडल को मजबूत करने का प्रयास है।
इसके अंतर्गत नवजात मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर, संस्थागत वितरण, डॉक्टरों की उपस्थिति, दवा की उपलब्धता जैसे बिंदुओं पर प्रत्येक जिले को रैंकिंग दी जाती है।

ओजस सॉफ्टवेयर-

इसकी शुरुआत अगस्त 2015 में की गई थी।
शुभ लक्ष्मी योजना, राजश्री योजना तथा जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत लाभार्थी के बैंक खाते में सीधा वित्तीय लाभ प्रदान किया जाता है।
यह एक इ नवाचार है जिसमें ऑनलाइन पेमेंट की व्यवस्था की गई है।


जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत सरकारी पद स्वीकृत निजी चिकित्सा संस्थानों में प्रसव होने पर नियमों के अधीन ग्रामीण क्षेत्र की महिला को ₹1400 व शहरी क्षेत्र के महिला को ₹1000 का भुगतान किया जाता है।

5 comments:

  1. hello sir, please provide the link for English medium

    ReplyDelete
  2. E AUSHADHI AND HEALING KE BAARE MEIN B BTAYE

    ReplyDelete
  3. hello sir, please provide the link for English medium

    ReplyDelete
  4. Hlo I can download this mattes PDF? If possible, how?

    ReplyDelete

RAS Mains Paper 1

Pages