प्रशासन एवं प्रबंध भाग छह/ administration and management part 6/Concept of hierarchy - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Tuesday, December 11, 2018

प्रशासन एवं प्रबंध भाग छह/ administration and management part 6/Concept of hierarchy

प्रशासन एवं प्रबंध भाग छह/ administration and management part 6/Concept of hierarchy



स्तर को लाँघना -

कई बार कार्य में देरी से बचने के लिए बिना सोपानक्रम के मूल सिद्धांतो के उल्लंघन के एक अलग रास्ता खोज लिया जाता है ।
इसका प्रयोग किसी विभाग के अधीनस्थ अधिकारीयो द्वारा किसी अन्य विभाग के समांतर अधिकारी से सीधा सम्पर्क स्थापित करने के लिए किया जाता है।
हालाँकि इस प्रक्रिया को अपनाने के लिए अधिनस्थो के लिए यह आवश्यक है की वरिष्ठ अधिकारीयो से इस सम्बंध में पूर्व अनुमति ली जाए तथा प्रत्येक सम्पर्क की जानकारी से वरिष्ठों को अवगत रखा जाए।
एक अन्य तरीक़े में कार्य में तेज़ी लाने के लिए किसी बीच के स्तर को छोड़ कर अधीनस्थ द्वारा सीधे वरिष्ठ अधिकारी से सम्पर्क कर लिया जाता है। अधिकारियों के बीच सम्पर्क साधने कि इस प्रक्रिया को स्तर लाँघना कहते है। हालाँकि यह आवश्यक है की मध्यस्थ को इसकी पूरी जानकारी हो।

सोपानक्रम के लाभ-

इससे उद्देश्य की एकता को प्राप्त किया जा सकता है।
यह संगठनात्मक समन्वय तथा एकजुटता का माध्यम है।
यह संगठन में ऊपर से नीचे संचार तथा सम्पर्क का माध्यम है।
इससे उच्चतम स्तर का कार्य का बोझ कम होता है तथा विकेंद्रीकरण को बढ़ावा मिलता है।
इससे संगठन के प्रत्येक स्तर के उत्तरदायित्व निर्धारण में सहायता मिलती है।

सोपानक्रम सिद्धांत की हानियाँ /कमियाँ -

इससे प्रशासन में लचिलेपन की बजाय कठोरता आ जाती है।
इसमें आदेशों का यथा रूप पालन किया जाता है जिससे निचले स्तरों की काम के प्रति उत्साह में कमी आती है।
इसमें प्रत्येक निर्णय संगठन के प्रमुख की इच्छा या अनिच्छा पर निर्भर करता है जो संगठन कि सफलता या विफलता के लिए भी उत्तरदायी होता है।
इससे कई बार कार्य निपटान में अनावश्यक देरी हो जाती है।

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages