प्रशासन एवं प्रबंध भाग 14/administration and management part 14/concept of responsibility - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Tuesday, December 25, 2018

प्रशासन एवं प्रबंध भाग 14/administration and management part 14/concept of responsibility


प्रशासन एवं प्रबंध भाग 14/administration and management part 14/concept of responsibility





उतरदायित्व (Responsibility) -

निर्धारित कर्तव्यों का पालन करना ही ज़िम्मेदारी है।
उत्तरदायित्व सत्ता अथवा अधिकार के साथ घनिष्ठ रूप से सम्बंधित होता है।
किसी भी दिए गए अधिकार के सही ढंग से इस्तेमाल करवाने के लिए उसके साथ उत्तरदायित्व को जोड़ना आवश्यक हो जाता है।
उत्तर दायित्व का तात्पर्य दिए गए आदेशों के कर्तव्य पालन से है।
निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए अधिकारियों की जवाबदेही को भी उत्तरदायित्व कहा जा सकता है।

उत्तरदायित्व के प्रकार -

प्रशासनिक प्रक्रिया में उत्तरदायित्व तीन प्रकार होता है -
राजनैतिक 
संस्थागत 
व्यावसायिक 

राजनैतिक उत्तरदायित्व ( Political Responsibility )

संसदीय शासन व्यवस्था में प्रशासन पर राजनैतिक उत्तरदायित्व के माध्यम से नियंत्रण रखा जाता है।
प्रत्येक सत्ता अथवा अधिकार प्राप्त व्यक्ति उसके अंतर्गत आने वाले विभागों के कामकाज के लिए उत्तरदायी होता है।
मंत्री एक राजनैतिक कार्यकर्ता के रूप में जो निर्देश देते है उनका क्रियान्वयन विभिन्न अधिनस्थो द्वारा किया जाता है।
मंत्री को अपने उत्तरदायित्व की पूर्ति हेतु प्रशासनिक व्यवस्था का सहयोग अपेक्षित है।
राजनैतिक उत्तरदायित्व की पूर्ति नहीं होने पर कई बार मंत्रियो को अपने पद का त्याग भी करना पड़ता है।

संस्थागत उत्तरदायित्व -

किसी भी प्रशासनिक संस्था का यह उत्तरदायित्व होता है की वह जन कल्याण के प्रति संवेदनशील बनी रहे।
ऐसा नहीं होने पर संस्था के लिए अस्तित्व के लिए संकट का ख़तरा हो सकता है।
जन कल्याण के लिए बनाई गई कई संस्थाए समय के साथ अपने उत्तरदायित्वों को भूलकर आत्मकेंद्रित हो जाती है। ऐसी परिस्थिति में राजनैतिक नेतृत्व द्वारा संगठनात्मक परिवर्तन जैसे क़दम भी उठाए जाते है।

व्यावसायिक उत्तरदायित्व -

किसी भी व्यवसाय में कार्यरत कर्मचारियों को उन मान्यताओ, नियमो तथा कर्तव्यों का पालन करना होता है जो उस पेशे से जुड़े होते है।व्यावसायिक संस्थाए इसे बनाए रखने के लिए सदस्यों पर अनुशासन तथा उत्तरदायित्व भी लागू करती है।
आज बड़ी संख्या में पेशेवर लोग सार्वजनिक सेवाओं का हिस्सा बन रहे है व प्रशासन का स्तर भी व्यावसायिक हो गया है।इसलिए प्रशासकों को भी व्यावसायिक उत्तरदायित्व का पालन करना पड़ता है।

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages