स्व एवं व्यक्तित्व की अवधारणा भाग तेरह/self concept and personality part 13/ RAS MAINS PAPER 3 - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Thursday, October 25, 2018

स्व एवं व्यक्तित्व की अवधारणा भाग तेरह/self concept and personality part 13/ RAS MAINS PAPER 3

स्व एवं व्यक्तित्व की अवधारणा भाग तेरह/self concept and personality part 13/ RAS MAINS PAPER 3



व्यक्तित्व मूल्यांकन की प्रक्षेपी तकनीकें (Projective techniques) -

वाक्य समापन परीक्षण -

नाम के अनुरूप इस परीक्षण में विभिन्न अपूर्ण वाक्य प्रयोज्य के समक्ष प्रस्तुत किए जाते है जिन्हें उसे पूरा करना होता है।
ऐसा माना जाता है कि जिस तरीके से प्रयोज्य द्वारा वाक्य को पूरा किया जाता है उससे उसकी भावनाओं, मनोस्थिति तथा अन्तर्द्वन्द्व के बारे में पता चलता है।
दिए गए वाक्यों के उदाहरण निम्न प्रकार है -
  1. रास्ते पर चलते समय. . . . . . . . . ।
  2. प्रातःकाल. . . . . . . . . . . . . . . . . ।
  3. हम मनुष्य है इसलिए. . . . . . . . . . I


व्यक्तंकन परीक्षण -

यह एक सरल परीक्षण है।
इसमें प्रयोज्य को एक सफेद कागज पर पेन्सिल तथा रबर की सहायता से किसी व्यक्ति का चित्र बनाने के लिए कहा जाता है।
एक चित्र की समाप्ति के पश्चात उसे विपरीत लिंग का चित्र बनाने के लिए कहा जाता है।
अन्त में उस चित्र पर कहानी लिखने का कार्य प्रयोज्य को दिया जाता है।
बनाए गए चित्र के विभिन्न लक्षणों के आधार पर व्यक्तित्व के आकलन का कार्य किया जाता है।

उपरोक्त वर्णित प्रक्षेपी तकनीकों के प्रयोग द्वारा मनोवैज्ञनिक किसी भी व्यक्ति के ऐसे अनछुए पहलुओं का पता लगा पाते हैं जिन्हें स्व प्रतिवेदन सें पता नहीं किया जा सकता है।
इन तकनीकों से वांछित परिणाम तभी प्राप्त होता दै जब परीक्षक के पास इसका पर्याप्त प्रशिक्षण तथा कौशल हो।
इसके अतिरिक्त अंक प्रदान करने की विश्वसनीयता का भी अभाव होता है। व्याख्या की वैधता से संबंधित समस्याए भी जुड़ी होती है।

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages