मानव रक्त एवं परिसंचरण तंत्र भाग दो/Human Blood and Circulatory System Part 2 - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Sunday, October 28, 2018

मानव रक्त एवं परिसंचरण तंत्र भाग दो/Human Blood and Circulatory System Part 2

मानव रक्त एवं परिसंचरण तंत्र भाग दो/Human Blood and Circulatory System Part 2



रक्त के कार्य (functions of blood)-

मानव शरीर में रक्त के प्रमुख कार्यों में निम्नलिखित सम्मिलित है-
ऑक्सीजन तथा कार्बन डाइऑक्साइड का विनिमय एवं संचरण।
शरीर के लिए प्रतिरक्षा का कार्य करना और रोगों से बचाना।
शरीर के विभिन्न अंगों तक पोषक तत्वों का परिवहन करना।
शरीर के पीएच मान को नियंत्रित करना।
शरीर के तापमान का नियंत्रण करना।
विभिन्न प्रकार के उत्सर्जी पदार्थों को शरीर से बाहर निकालना।

रक्त समूह (blood group)-

किसी भी व्यक्ति के रक्त समूह का निर्धारण उसके रक्त में पाए जाने वाली लाल रूधिर कणिकाओं पर उपस्थित प्रतिजन A तथा B के आधार पर किया जाता है। ये एन्टीजन विशेष प्रकार के प्रोटीन है जिन्हें ग्लाइकोप्रोटीन कहा जाता है। कुछ प्रमुख रक्त समूह निम्न है -
समूह A- प्रतिजन A की उपस्थिति
समूह B- प्रतिजन B की उपस्थिति
समूह AB- प्रतिजन A तथा B दोनों की उपस्थिति
समूह O - प्रतिजन A तथा B दोनों अनुपस्थित
इन सब को मिलाकर ABO समूह कहा जाता है।

उपरोक्त A तथा B प्रतिजन के अतिरिक्त इन कणिकाओं पर एक अन्य प्रतिजन भी पाया जाता है, जिसे Rh प्रतिजन कहा जाता है।
इसकी उपस्थिति को रक्त समूह पर धनात्मक चिन्ह से तथा अनुपस्थिति को ऋणात्मक चिन्ह से दर्शाया जाता है।
 विश्व में 80 फीसदी से भी अधिक लोगों में यह प्रतिजन पाया जाता है।

रुधिर परिसंचरण तंत्र (circulatory system)-

मानव तथा जन्तुओं के शरीर में विभिन्न पोषक पदार्थो , गैसो, हार्मोन्स तथा उत्सर्जी पदार्थो के परिवहन के लिए विभिन्न अंगो के संयोजन से निर्मित तंत्र को परिसंचरण तंत्र कहा जाता है। यह तंत्र दो प्रकार का होता है -
खुला परिसंचरण तंत्र
बंद परिसंचरण तंत्र

खुला परिसंचरण तंत्र (open circulatory system) -
इस प्रकार के तंत्र में रक्त थोडे समय ही रक्त वाहिकाओ में प्रवाहित होता है तत्पश्चात खुले स्थान पर आ जाता है। 
इनमें रुधिर कम दाब एवं गति से प्रवाहित होता है तथा चक्र पूर्ण होने में की कम समय लगता है।
तिलचट्टा, मकड़ी तथा कीटों में ऐसा तंत्र पाया जाता है।

बंद परिसंचरण तंत्र (close circulatory system) -
यह तंत्र सभी कशेरूकीय प्राणियों में पाया जाता है।
इस प्रकार के तंत्र में रक्त का सम्पूर्ण प्रवाह बंद रक्त वाहिकाओं में होता है।
इसमें रक्त अधिक दाब एवं गति के साथ प्रवाहित होता है।
पदार्थों का आदान प्रदान ऊतक द्रव के माध्यम से होता है।

2 comments:

  1. Thank................................................sir

    ReplyDelete
  2. Thank................................................sir

    ReplyDelete

RAS Mains Paper 1

Pages