स्व एवं व्यक्तित्व की अवधारणा भाग छह /self concept and personality part 6/ RAS MAINS PAPER 3 - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Sunday, September 16, 2018

स्व एवं व्यक्तित्व की अवधारणा भाग छह /self concept and personality part 6/ RAS MAINS PAPER 3

स्व एवं व्यक्तित्व की अवधारणा भाग छह /self concept and personality part 6/ RAS MAINS PAPER 3



व्यक्तित्व का पंच कारक मॉडल (Big Five factors)-

पॉल कास्टा तथा रोबर्ट मैक्रे ने सभी शीलगुणों का अध्ययन कर उन्हें 5 समूहों में विभाजित करने की कोशिश की है। 
इस मॉडल को मनोविज्ञान के इतिहास में सबसे व्यापक एवं अनुभव सिद्ध निष्कर्ष माना गया है।
इन्हें वृहत पांच कारक के नाम से जाना जाता है। यह पांच कारक निम्न प्रकार हैं-

अनुभवों के लिए खुलापन (Openness)
नई विचारों के लिए उदार, कल्पनाशील, उत्सुक, सामाजिक क्रियाकलापों को पसंद करने वाले व्यक्ति इस कारक में उच्च अंक प्राप्त करते हैं। इसके विपरीत गुण रखने वाले लोगों में अनम्यता पाई जाती है। यह लोग अधिक परंपरागत होते हैं।

कर्तव्यनिष्ठा/ अंतर्विवेकशीलता (Conscientiousness)- 

इस श्रेणी के लोगों में कर्तव्यनिष्ठा, उत्तरदायित्व की भावना, कर्मठता, योजनाबद्धता एवं आत्म नियंत्रण जैसे गुण होते हैं। विपरीत स्वभाव वाले लोगों में आराम पसंद तथा आवेग की प्रधानता पायी जाती है।

बहिर्मुखता (Extraversion)-

इस कारक में उच्च अंक प्राप्त करने वाले लोग मिलनसार ,उत्साही, सकारात्मक भावना रखने वाले, आमोद प्रमोद पसंद एवं सामाजिक रुप से सक्रिय होते हैं। विपरीत गुणों वाले व्यक्ति स्वभाव से शर्मीले, संकोची, व आत्मकेंद्रित होते हैं।

सहमतिशीलता (Agreeableness)-

उच्च अंक प्राप्त करने वाले व्यक्ति दयालु, सहयोगी, मैत्रीपूर्ण व्यवहार दर्शाते हैं। विपरीत स्वभाव वाले व्यक्ति आक्रामक, असहयोगी, ईर्ष्यालु तथा प्रतिस्पर्धा रखते हैं।

मनोविक्षुब्धता/ तंत्रिकाताप (Neuroticism)-

जो लोग मनोविक्षुब्धता में अधिक अंक पाते हैं वे भावनात्मक रूप से प्रतिक्रियाशील और तनाव के प्रति कमज़ोर होते हैं। ये लोग सांवेगिक रूप से दुःखी, परेशान, अस्थिर, चिड़चिड़े, भयभीत तथा तनावग्रस्त होते हैं।
इसके विपरित कम अंक पाने वाले लोग सुसमायोजित, शांत स्थिर एवं नकारात्मक भावनाओं से मुक्त होते हैं।

विभिन्न संस्कृतियों में लोगों के व्यक्तित्व को समझने में यह मॉडल अत्यंत सहायक सिद्ध हुआ है। वर्तमान समय में व्यक्तित्व के अधीन के लिए यह मॉडल सर्वाधिक सहायक उपागम माना जाता है।

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages