राजस्थान भू राजस्व अधिनियम 1956 भाग 2/Rajasthan land revenue act part 2/Ras mains paper 3 - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Sunday, September 9, 2018

राजस्थान भू राजस्व अधिनियम 1956 भाग 2/Rajasthan land revenue act part 2/Ras mains paper 3

राजस्थान भू राजस्व अधिनियम 1956 भाग 2/Rajasthan land revenue act part 2/Ras mains paper 3




राजस्व अपीलीय प्राधिकरण - 

(1) राज्य सरकार इस तरह के कई अधिकारियों को नियुक्त कर सकती है, कम से कम तीन, जो कि राजस्व न्यायिक मामलों में अपील, संशोधन और संदर्भों को प्राप्त करने, सुनने और निपटाने के लिए आवश्यक हो और विशेष रूप से कानून द्वारा प्रदान किए गए अन्य मामलों में आवश्यक हो ।

(2) नियुक्त प्रत्येक अधिकारी को राजस्व अपीलीय प्राधिकारी के रूप में नामित किया जाएगा और, अपने अधिकार क्षेत्र और उसके कर्तव्यों के प्रदर्शन के लिए इनके द्वारा राज्य सरकार द्वारा आधारित स्थानों पर पद ग्रहण किया जाएगा।

नियंत्रण शक्ति - 

(1) राज्य में राजस्व से जुड़े सभी गैर-न्यायिक मामलों का नियंत्रण, निपटारे से जुड़े मामले के अलावा, राज्य सरकार में निहित है और सभी न्यायिक मामलों और निपटारे से जुड़े सभी मामलों का नियंत्रण बोर्ड में निहित है। 

(2) न्यायिक मामला" का तात्पर्य उस मामले से हैं जिसमें एक राजस्व अदालत या अधिकारी को पार्टियों के अधिकारों और देनदारियों को निर्धारित करना होता है।
ऐसे किसी भी मामले से जुड़ी कार्यवाही और आदेश के साथ-साथ अपील, संशोधन को भी न्यायिक मामलों के रूप में समझा जाएगा।

न्यायालयों और अधिकारियों की शक्तियां और कर्त्तव्य -

  1. एक आयुक्त या एक कलेक्टर  या उप-मंडल अधिकारी या तहसीलदार क्रमशः अपने विभाजन या जिला या उप-विभाजन या तहसील के भीतर, इस अधिनियम तथा राजस्थान काश्तकारी अधिनियम 1955 कानून के अंतर्गत प्रदत सभी शक्तियों का प्रयोग करेंगे।
  2. निपटान आयुक्त पूरे राज्य में निपटारे से संबंधित सभी मामलों का प्रभारी होगा और इसके संबंध में अधिकारों या कर्तव्यों का उपयोग इस अधिनियम तथा राजस्थान काश्तकारी अधिनियम 1955 या प्रदत्त कानून के अंतर्गत करेंगे।
  3. भूमि अभिलेख निदेशक सर्वेक्षण से संबंधित सभी मामलों और राज्य के माध्यम से भूमि अभिलेखों की तैयारी, संशोधन और रखरखाव का प्रभारी होगा और उसके संबंध में इस तरह के कर्तव्यों का प्रयोग और निर्वहन इस अधिनियम या अन्य प्रदत्त कानून के अंतर्गत करेगा।
  4. एक भूमि अभिलेख अधिकारी, उस क्षेत्र के भीतर, जिसके लिए उसकी नियुक्ति की जाती हैं,  इस अधिनियम के तहत या किसी अन्य कानून के तहत या उसके द्वारा लगाए गए कर्तव्यों का पालन करेगा।

पटवारी मंडल का गठन और परिवर्तन -

 राज्य सरकार की पिछली मंजूरी के साथ भूमि अभिलेख निदेशक समय-समय पर पटवार मंडलों में प्रत्येक जिले के गांवों की व्यवस्था कर सकते हैं और ऐसे शहरों की संख्या और सीमाओं को बदल सकते हैं।

पटवारी की नियुक्ति - 

इस अधिनियम के तहत बनाए गए नियमों के अधीन, कलेक्टर प्रत्येक सर्कल में वार्षिक रजिस्ट्रारों के रखरखाव और सुधार के लिए पटवारी नियुक्त करेगा। रिकॉर्ड [भूमि धारकों और सर्कल के किरायेदारों से सभी किराए, राजस्व और अन्य मांगों के संग्रह के लिए जिनके लिए उन्हें नियुक्त किया गया है], और ऐसे अन्य कर्तव्यों के लिए, जैसा कि राज्य सरकार निर्धारित कर सकती है।

भूमि अभिलेख निरीक्षण मंडल का गठन और परिवर्तन 

राज्य सरकार की पिछली मंजूरी के साथ, भूमि अभिलेख निदेशक प्रत्येक जिले के पटवार सर्किल को भूमि अभिलेख निरीक्षण मंडल में व्यवस्थित कर सकते हैं।

गिरदारवार कानूनगो या भूमि अभिलेख निरीक्षकों की नियुक्ति - 

इस अधिनियम के तहत बनाए गए नियमों के अधीन, कलेक्टर प्रत्येक भूमि अभिलेख निरीक्षण मंडल में एक गिरदावर कानूनगो या भूमि रिकॉर्ड निरीक्षक को वार्षिक रजिस्ट्ररों और अभिलेखों के  वार्षिक पर्यवेक्षण, रखरखाव और सुधार के लिए नियुक्त करेगा।

सदर कानूनगो - 

इस अधिनियम के तहत बनाए गए नियमों के अधीन, भूमि अभिलेख निदेशक द्वारा,  गिरदावर कानूनगो या भूमि अभिलेख निरीक्षकों और पटवारियों के काम की निगरानी करने और राज्य सरकार द्वारा निर्धारित अन्य कर्तव्यों का पालन करने के लिए प्रत्येक जिले में एक या एक से अधिक सदर कानूनगो नियुक्त करेंगे।

2 comments:

  1. राजस्थान भू राजश्व अधिनियम पार्ट 1 की लिंक नही मिल रही है।

    ReplyDelete

RAS Mains Paper 1

Pages