Continental drift theories/ महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Saturday, January 13, 2018

Continental drift theories/ महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त

Science/Ras Mains Paper-2/Ras prelims

प्रमुख विचारक-
                    फ्रांसिस बेकन-1620
                    स्नाइडर      -1885
                    एफ.जी.टेलर -1910
सिद्वान्त के प्रतिपादक-
                    अल्फ्रेड वेगनर-1912 (जर्मन जलवायुवेता)
जलवायु परिवर्तन की समस्या के समाधान हेतु वेगनर ने इस सिद्धान्त का प्रतिपादन किया।
कार्बोनिफेरस युग में सभी महाद्वीप एक ही स्थलखण्ड के रूप में स्थित थे जिसे वेगनर ने पेंजिया कहा।
यह पेंजिया चारो ओर से महासागर से घिरा था जिसे पेंथालासा नाम दिया गया। (चित्र 5.1)

पेंजिया के प्रथम विभाजन के फलस्वरूप टैथिस सागर का निर्माण हुआ जिसके उत्तर में स्थित हिस्से को अंगारालैन्ड(लोरेशिया) तथा दक्षिणी हिस्से को गोंडवाना लैण्ड नाम दिया गया।




कालान्तर में उत्तरोत्तर विभाजन के फलस्वरूप महाद्वीप वर्तमान स्थिति में आए।

विस्थापन हेतु उत्तरदायी बल-
1. गुरूत्वाकर्षण एवं प्लवनशीलता बल   2. ज्वारीय बल।

महाद्वीपीय विस्थापन के पक्ष में प्रमाण-

1.भौगोलिक प्रमाण-
(अ) अटलाण्टिक तटों में साम्य-अटलाण्टिक महासागर के दोनों तटों को परस्पर पुनः सटाया जा सकता है। JIG SAW FIT
(ब) पर्वतो का संरेखन- अटलाण्टिक महासागर के दोनों तटों पर स्थित पर्वतमालाएँ आपस में संरेखित है तथा समानता रखती है। उदा०- केलोडियन, हर्सीनियन, अल्पाइन आदि।

(स) नवीन मोडदार पर्वतो का निर्माण- हिमालय, एण्डीज, राकीज आदि पर्वतो के अध्ययन से पता चलता है कि ये पर्वत दो महाद्वीपों की भू सन्नति पर विद्यमान हैं जिनका निर्माण जमा तलछट पर दबाव पडने से हुआ है।

2. भूगर्भ सम्बन्धि प्रमाण-

(अ) संरचनात्मक समानता- अटलाण्टिक महासागर के दोनो किनारों पर पाई जाने वाली शैलो(चट्टानो) में अद्भूत समानता पाई जाती है जो कभी इनके एक होने को प्रमाणित करती है।

(ब) स्तर विन्यास में समानताअटलाण्टिक महासागर के दोनों ओर शैल परतों में भी क्रम समानता है।

3. जैविक प्रमाण-

 
(अ) पुराजीवाश्मीय प्रमाण- अलग अलग महाद्वीपों से पायें जाने वाले समान जीवों के जीवाश्म यह प्रमाणित करते है कि किसी समम ये महाद्वीप आपस में जुड़े हुए थे।

(ब) जैविक स्वभाव- नार्वे में पाये जाने वाले लैमिंग नामक जीव अटलाण्टिक महासागर में पश्चिम की ओर चलते चलते मर जातें है जो उनकी उस समय की आदत को इंगित करता है जब दोनों तट पास पास में थे।


उपरोक्त विषय पर अधिक जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए लिंक पर वीडियो ट्यूटोरियल भी देख सकते है। 



No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages