सुजस सितम्बर 2017 : महत्वपूर्ण बिंदु - RAS Junction <meta content='ilazzfxt8goq8uc02gir0if1mr6nv6' name='facebook-domain-verification'/>

RAS Junction

We Believe in Excellence

Tuesday, October 24, 2017

सुजस सितम्बर 2017 : महत्वपूर्ण बिंदु

sujas magazine September 2017 important facts
 
  • कोटा ईस्ट वेस्ट कॉरिडोर पर कोटा में चम्बल नदी पर बने देश के तीसरे व प्रदेश के पहले हैंगिंग ब्रिज (सिंगल स्पाइन ) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 अगस्त को जनता को समर्पित किया। इस ब्रिज की लागत 278 करोड़ रुपए है।  यह ब्रिज आठ देशो के सहयोग से बनाया गया है। यह ब्रिज गुजरात के पोरबंदर से लेकर असम के सिल्चर तक सात राज्यों को जोड़ने वाले ईस्ट - वेस्ट कॉरिडोर का भाग है।  


  • भारतीय डाक विभाग द्वारा 'भारत की समृद्ध विरासत' विषय पर जारी 12 डाक टिकटों के सेट में 04 डाक टिकटों में राजस्थान को स्थान मिला है। ये डाक टिकट जयपुर के आमेर किले के गणेशपोल,सिटी पैलेस के मयूर प्रवेश द्वार, ब्लू पोटरी व उदयपुर में स्थित बागौर की हवेली की शीशे की खिड़की पर आधारित है।
 

  • 27 जनवरी 2016 से आरम्भ मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के अंतर्गत प्रथम चरण में 3529  गावों में 96 हजार जल संरक्षण के कार्य पुरे किये गए तथा द्वितीय चरण में भी 4200 गावों में एक लाख 30 हजार जल संरचनाओं का निर्माण किया गया। 
 
वीडियो ट्यूटोरियल 
 

 

  • मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को गुड़ गवर्नेंस, सूचना प्रौद्योगिकी, कौशल विकास, व महिला स्वावलम्बन जैसे क्षेत्रो में उत्कृष्ट कार्य व राजस्थान को बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर  लाने के लिए "बेस्ट चीफ मिनिस्टर ऑफ़ द ईयर " के अवार्ड से सम्मानित किया गया है। इसके साथ ही राजस्थान को भी "स्टेट ऑफ़ द ईयर" का अवार्ड दिया गया है। 



  • मुख्यमंत्री ने 9 सितम्बर को राजस्थान के खेतो में उपजे जैतून से तैयार पहली प्रोस्सेड ऑलिव टी "आलिटिया " लॉन्च  की। 



  • बीकानेर के छ गावों की लगभग 30 -40 महिलाओ के साथ 1989 में उरमूल ट्रस्ट ने "आर्यवर्धन " परियोजना शुरू  की जो आज 2000 कशीदकारो की बड़ी संख्या में बदल चुकी है। आज यह थार डेजर्ट क्राफ्ट या थार मरूज कला के नाम से देश विदेश में पहचान बना चुकी है। 



  • उदयपुर से करीब 35 किलोमीटर दूर जावर स्थित रमानाथ मंदिर व कुंड स्थापत्य कला के अनूठे उदाहरण है। इस मंदिर का निर्माण महाराणा कुम्भा की पुत्री रमा बाई द्वारा 1497 ईस्वी  में करवाया गया। पंचायतन श्रृंखला का यह मंदिर मुख्यत भगवन विष्णु को समर्पित है। 

No comments:

Post a Comment

RAS Mains Paper 1

Pages